बबुल द्वारा शुक्र धातु से सम्बंधित रोगों का इलाज !!!!

वीर्य का पतलापन, धात, स्वप्नदोष (शुक्रमेह) सभी धातुदोषों को दूर करने वाला व वीर्य की उत्पति करने वाला जबरदस्त नुस्खा।

योग निम्न है:—
बबूल की बिना बीज वाली कच्ची फली 100 ग्राम।
बबूल का गोंद 100 ग्राम।
बबूल की कोंपलें 100 ग्राम।

पहले बबूल की कोंपल व कच्ची फलियों को छाया में सुखालें। फिर तीनों चीजों को बिल्कुल बारीक पीसलें। आपका योग तैयार है।
सब चीजें आजकल बड़ी आसानी से मिल जायेंगी। बबूल का पेड़ सब जगह बहुतयात में पाया जाता है। इसीलिये आजकल में यह योग बनालें। फिर फलियाँ पककर बीज पड़ जायेंगे। इसलिये यही टाईम है बनायें व लाभ उठायें। कृप्या इसके लिये मैसेज न करें।
मात्रा:— 3 से 6 ग्राम तक ठंडे, मिश्री मिले दूध से लेवें।
नोट:— यह औषधि सामान्य होते हुए भी अच्छा काम करती है।

Ayush Center
Hide Buttons